Acute renal failure (ARF) : क्या है, कारण, लक्षण, इलाज

अल्पकालीन किडनी की विफलता (एक्यूट रीनल फेलियर, acute renal failure(ARF)) वह है, जो कुछ घंटों या दिनों में शुरु हुई हो। “Renal” का अर्थ हिंदी में “किडनी से संभंधित” है। यह एक ऐसी गंभीर बीमारी है जो मरीज के शरीर में पहले से ही मौजूद कई अन्य बीमारियों (दिल की विफलता, यकृत विफलता, आदि) के साथ रह सकती है। अल्पकालीन किडनी की विफलता के अन्य बीमारियों के साथ मौजूद रहने के कई कारण हो सकते हैं। समझने के लिए महत्वपूर्ण बात यह है कि अगर किडनी की विफलता के कारण ठीक से पता लगाया जाता है, और इलाज किया जाता है। इलाज से अल्पकालीन किडनी की विफलता पूरी तरह से ठीक  हो  सकती  है।   

क्या होता है अल्पकालीन रीनल (किडनी) विफलता (Acute renal failure)

अल्पकालीन किडनी की विफलता तब होती है जब आपकी किडनी अचानक से रक्त से अतिरिक्त लवण, तरल पदार्थ और अपशिष्ट पदार्थों को छानकर शरीर से बाहर निकालने की कार्यक्षमता को खो देती हैं। अल्पकालीन किडनी विफलता को अल्पकालीन किडनी क्षति (acute kidney injury,AKI) भी कहा जाता है। जो लोग पहले से ही किसी अन्य बीमारी से जूझ रहे होते या अस्पताल में होते हैं उनमें अल्पकालीन किडनी विफलता का होना सामान्य होता है।

अल्पकालीन किडनी विफलता का इलाज यदि समय रहते और विशेषज्ञ से न कराया जाए तो, यह जीवन के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

Acute renal failure(ARF) कैसे अलग है CKD (chronic kidney disease) से

CKD (chronic kidney disease) से ARF (acute renal failure)  बहुत अलग है। (CKD) जैसी किडनी की समस्याओं को गंभीर माना जाता है, क्योंकि ये बीमारी जल्दी से अपने लक्षण नहीं दिखाती है। दिखाती है तो तब, जब किडनी लगभग 70 से 80 प्रतिशत खराब हो चुकी होती हैं। (CKD) में किडनी खराब होने की प्रक्रिया बहुत धीमी होती है, जो महीनों या सालों तक चलती है।

CKD का पता लगाने के लिए डॉक्टर आपको eGFR नामक परीक्षण कराने की सलाह दे सकता है। यह परीक्षण किडनी की विफलता के तत्काल चरण की जानकारी देता है जो डॉक्टर को उपचार की योजना बनाने में मदद करता है।

भारत में हर साल CKD के लगभग 3,00,000 लोगों को एंड-स्टेज किडनी फेल्योर (ESKF किडनी विफलता के अंतिम चरण) का पता चलता है।

इसके दूसरी ओर अल्पकालीन किडनी विफलता, (AKI) अपने लक्षण जल्दी दिखा देती है जिससे इस रोग को इलाज से नियंत्रित किया जा सकता है।

क्या हैं ARF (Acute renal failure) के कारण

कई अन्य कारणों से आप अल्पकालीन किडनी विफलता से ग्रस्त हो सकते हैं, जिनमें से सामान्य कारण हैं-

  • शरीर में कोई ऐसी स्थिति जिससे कारण किडनी में रक्त की आपूर्ति न हो पाती हो।
  • किडनी से पेशाब को मूत्राशय तक ले जाने वाली  मूत्रवाहिनी में कोई रुकावट आ जाना जिससे शरीर के बेकार पदार्थ बाहर न निकल पाएँ।
  • गंभीर या अचानक पानी की कमी या डीहाइड्रेशन (dehydration) हो जाना।

 सबसे आम कारण आंतों के संक्रमण के कारण गंभीर दस्त (loose motions) और उल्टी है।

  • किन्ही दवाइयाँ से किडनी में कोई नुकसान होना
  • मूत्रपथ संक्रमण या रुकावट ( UTI/ urinary tract obstruction)
  • ग्लोमेरूलोनेफ्राइटिस (Glomerulonephritis) जैसी बीमारियाँ जिनकी वजह से किडनी बेकार पदार्थों को छानने की क्षमता को खो देती है।
  •  बाईपास आदि जैसी प्रमुख सर्जरी के बाद
  • सांप का काटना
  • रक्त प्रवाह में गंभीर संक्रमण जैसे सेप्सिस (sepsis)
  • प्रसव के दौरान रक्तस्राव या उच्च रक्तचाप जैसी जटिलताएँ आना
  • किसी अन्य प्रमुख अंग की विफलता जैसे हृदय की विफलता और लीवर की विफलता से भी किडनी की विफलता हो सकती है।

क्या हैं Acute renal failure के लक्षण

अल्पकालीन किडनी विफलता के कुछ सामान्य लक्षणों में शामिल हैं-

  • उच्च रक्त-चाप
  • पेशाब की मात्रा में कमी आना
  • किडनी की फिल्टर करने की कार्यक्षमता कम हो जाने से शरीर में बेकार द्रव (पानी) का स्तर बढ़ जाने से हाथ-पैर और शरीर के अन्य अंगों में सूजन आ जाना
  • सांस आने में परेशानी होना और थकान रहना
  • व्यवहार में बदलाव आना और भ्रम में रहना
  • भूख कम लगना, जी मचलाना और उल्टा आना
  • गंभीर स्थिति में कोमा जैसे मामले

यदि इलाज न किया जाए तो जान को खतरा रहता है, और अल्पकालीन किडनी विफलता दीर्घकालीन किडनी विफलता में बदल सकती है।

क्या हैं Acute renal failure का इलाज

किडनी के किसी भी रोग या क्षति से निजात पाने के लिए आवश्यक है कि आप किसी शिक्षित विशेषज्ञ से ही अपने स्वास्थ्य के लिए सलाह लें। अल्पकालीन किडनी विफलता के इलाज के लिए सबसे पहले आपको अपने लिए एक किडनी विशेषज्ञ (Nephrologist) की तलाश करनी होगी। इसके इलाज के लिए आपको अस्पताल में रहना पड़ सकता है। हालांकि जो लोग पहले से ही अस्पताल में किसी अन्य बीमारी का इलाज करा रहे होते हैं तो उन्हें अल्पकालीन किडनी विफलता जैसी बीमारी होना सामान्य है।

अल्पकालीन किडनी विफलता के इलाज के लिए सबसे महत्वपूर्ण है कि सबसे पहले बीमारी के कारण का पता लगाकर उसका इलाज किया जाए। आपका इलाज इस बात पर भी निर्भर करता है कि आपकी अल्पकालीन किडनी की विफलता की गंभीरता और कारण क्या है।

इसके अनुसार अपके इलाज में ये स्थितियाँ शामिल हो सकती हैं

आहार-

विशेषज्ञ अल्पकालीन किडनी विफलता का इलाज शुरु करते समय सबसे पहले किडनी के मरीज के आहार पर कुछ प्रतिबंध लगा सकता है या अन्य सलाह दे सकता है। जैसे- तरल (पानी) ज्यादा न लेना, सोडियम ,पोटैशियम उच्च प्रोटीन युक्त आहार पर प्रतिबंध लगा सकता है।

दवाइयाँ-

आपका विशेषज्ञ आपको इस बीमरी के साथ पनपे किसी अन्य संक्रमण आदि को रोकने के लिए एंटिबायोटिक दवाएँ दे सकता है। साथ कुछ मूत्रवर्धक दवाएँ लेने की सलाह दे सकता है ताकि किडनी को पेशाब बनाने में मदद मिल सके।

डायलिसिस-

अल्पकालीन किडनी विफलता में किडनी बेकार पदार्थों को छानने की क्षमता खो देती है जिससे रक्त में उनका स्तर बढ़ जाता है। इनमें से कुछ पदार्थ शरीर में BUN (blood urea nitrogen), क्रिएटिनिन, पोटेशियम, एसिडों का लोड बढ़ा देतें हैं। रक्त में इन जहरीले और बेकार पदार्थों को रक्त से साफ करने के लिए मशीनी प्रक्रिया यानि डायलिसिस का सहारा लिया जाता है। इसलिए अल्पकालीन किडनी विफलता के इलाज के लिए डायलिसिस जैसी प्रणाली की जरूरत भी पड़ सकती यदि आपका विशेषज्ञ आपको डायलिसिस की सलाह देता है तो उसे पूरा करें। हालंकि अल्पकालीन किडनी विफलता के लिए डायलिसिस की कुछ समय के लिए जरूरत पड़ सकती है जिससे किडनी पूरी तरह स्वस्थ हो सकती है।

Leave a Comment